कोई आपदा राहत कोष से तो कोई जरूरतमंदों का पेट भर अदा कर रहा इंसानित का फर्ज

खबर शेयर करें

हल्द्वानी। वैश्विक महामारी का रूप ले चुके कोरोना वायरस के फैलते संक्रमण को रोकने के लिए मदद को हर कोई आगे आ रहा है। कोई कोरोना आपदा राहत कोष में योगदान दे रहा है तो कोई जरूरतमंदों का पेट भर इंसानियत का फर्ज अदा कर रहा है।

मंडी परिषद अध्यक्ष गजराज बिष्ट ने जहां 25 लाख की धनराशि वाला चेक भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत के माध्यम से मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए सौंपा। उन्होंने अपने एक माह का वेतन तो मंडी परिषद कर्मचारियों ने अपने एक-एक दिन का वेतन भी आपदा महामारी से निपटने के लिए दिया। इस दौरान गजराज बिष्ट ने कहा है कि कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए मंडी परिषद जनता के लिए समर्पित है। समस्त अधिकारी व कर्मचारी पूर्ण निष्ठा के साथ अपनी सेवा दे रहे हैं। मंडी का कामकाज सुचारू चलता रहे और किसी को भी किसी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े, इसका पूरा ध्यान रखा जा रहा है। यह प्रयास आगे भी जारी रहेगा।

वहीं जरूरतमंदों तक खाद्य एवं रसद सामग्री लोगों के स्वयं के बजाय पुलिस-प्रशासन पहुंचा रहा है। भोजन बनाने व वितरित करने के लिए संस्थाओं व सामाजिक संगठनों का सहयोग भी लिया जा रहा है। इसके लिए संगठनों को शर्तों के साथ पास जारी किये गये हैं। थाल सेवा समेत कई अन्य संगठन भोजन बनाने के कार्य में लगे हुए हैं। भोजन बनाने व वितरित करने से पूर्व उसकी संपूर्ण जांच की जा रही है। भोजन तैयार होने के बाद पैक कर इन्हें पुलिस पिकेटों तक पहुंचाया जा रहा है। यहां से पुलिस-प्रशासन जरूरतमंद तक भोजन व अन्य सामग्री पहुंचाने का कार्य कर रहा है। इसके इतर थालसेवा ने प्रशासन को चिकित्सकों के लिए लजीज भोजन उपलब्ध कराने का प्रस्ताव भी दिया है। संस्था ने अपने सुझाव में कहा है कि कोरोना संकट में योद्धा का कार्य करने वाले चिकित्सकों को संस्था लजीज स्वादिष्ट भोजन उपलब्ध करवा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *