राज्यपाल के अभिभाषण के साथ विधानसभा का बजट सत्र शुरू

खबर शेयर करें

देहरादून/ गैरसैंण। विधानसभा का बजट सत्र गैरसैंण (भराड़ीसैंण) में राज्यपाल बेबी रानी मौर्य के अभिभाषण के साथ शुरू हो गया। इससे पहले राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने गार्ड ऑफ लिया। इस मौके पर विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद्र अग्रवाल, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, संसदीय कार्य मंत्री मदन कौशिक समेत कैबिनेट के मंत्री विधायक मौजूद रहे।

अभिभाषण शुरू होते ही कांग्रेस विधायकों ने वेल में आकर जमकर हंगामा किया। राज्यपाल का भाषण हंगामे के बीच पूरा हुआ। कांग्रेसी विधायकों ने वेल में आकर सरकार के खिलाफ खूब नारेबाजी की। इस दौरान विधायक हरीश धामी, करण मेहरा, मनोज रावत और प्रीतम सिंह समेत कांग्रेस के सभी विधायक वेल में पहुंचे। विधायकों की सुरक्षा कर्मियों से खूब धक्का-मुक्की हुई। राज्यपाल के अभिभाषण के बाद गैरसैंण में उत्तराखंड मंत्रिमंडल की बैठक शुरू हो गई।
अभी सत्र के लिए सात मार्च तक का कार्यक्रम निर्धारित किया गया है। सरकार चार मार्च को वित्तीय वर्ष 2020-21 का बजट सदन में पेश करेगी। बजट सत्र में विपक्ष की विभिन्न मुद्दों पर सरकार को घेरने की तैयारी है। सरकार ने भी विपक्ष के हमलों का जवाब देने को रणनीति तय की है। ऐसे में सत्र के हंगामेदार रहने के आसार हैं। बजट सत्र के लिए विधायकों ने 716 सवाल लगाए, जिनमें से 603 स्वीकृत किए गए हैं। सत्र के दौरान चार विधेयक भी पेश होंगे। राज्यपाल के अभिभाषण पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि यह सराहनीय और मार्गदर्शक अभिभाषण रहा। पत्रकारों से बातचीत में मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार की तमाम विकास योजनाओं को राज्यपाल ने अपने अभिभाषण में रखा। विपक्ष के अभिभाषण पर सवाल उठाने और विरोध को लेकर कहा कि विपक्ष हताशा और निराशा में है। असंगठित विपक्ष सवाल उठाने के अलावा और क्या कर सकता है। वहीं, विपक्ष ने सरकार पर हर मोर्चे पर विफल रहने का लगाया आरोप। अभिभाषण के दौरान विपक्ष के विधायक वेल में आकर निरंतर नारेबाजी करते रहे। इस मौके पर राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने कहा कि मेरी सरकार की ओर से राष्ट्रीय ई गवर्नेंस प्लान के अंतर्गत मिशनमोड परियोजना में आई एफएमएस साफ्टवेयर को राज्य में लागू कर दिया गया है। कहा, राज्य के आर्थिक विकास में उद्योग क्षेत्र का महत्वपूर्ण योगदान है। राज्य गठन के बाद देश के उच्च विकास दर पाने वाले शीर्षस्थ राज्यों में उत्तराखंड राज्य सम्मिलित है और इसमें तीव्र औद्योगिक विकास की सर्वाधिक महत्वपूर्ण भूमिका रही है। राज्यपाल ने कहा कि सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों को सड़क मार्ग से जोड़ने के लिए 75 किमी ग्रामीण मोटर मार्गों का निर्माण किया गया है और 329 ग्रामीण मोटर मार्गों का निर्माण कार्य प्रगति पर है। इन मोटर मार्गों से 269 गांवों को मुख्य मार्गों से जोड़ा जा चुका है। साथ ही एक लाख ग्रामवासी इससे लाभान्वित हो रहे हैं। राज्यपाल ने कहा कि मेरी सरकार ने पेराई सत्र 2019-20 के लिए गन्ना क्षेत्रफल चौरासी हजार हेक्टेयर प्राप्त कर लिया गया है, जिसे आगामी पेराई सत्र में एक लाख हेक्टेयर करने का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने कहा की मेरी सरकार ने वित्तीय वर्ष में वृक्षारोपण कार्यक्रम के अंतर्गत भारत सरकार की ओर से निर्धारित लक्ष्य के सापेक्ष विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत 21508.39 हैक्टेयर क्षेत्र में एक करोड़ चौरानबे लाख पौधे रोपित किए गए हैं। राज्यपाल ने कहा कि आपदा की दृष्टि से उत्तराखंड राज्य एक संवेदनशील राज्य है। मेरी सरकार ने आपदा के कारण होने वाली क्षति के नियमित परिवीक्षण के लिए वेब आधारित आनलाइन रिपोर्टिंग व्यवस्थ (सचेत) का विकास किया है। मार्च 2019 से अब तक एक लाख सोर्टेड सीमेन स्ट्रा का उत्पादन तथा 2700 पशुओं के कृत्रित गर्भाधान किया जा चुका है। गैरसैंण में वर्ष 2014 से विधानसभा का एक सत्र आयोजित होता रहा है, लेकिन पिछले साल यह परंपरा टूट गई। इसे विपक्ष ने मुद्दा भी बनाया। इसे देखते हुए सरकार ने इस वर्ष विधानसभा का बजट सत्र तीन से सात मार्च तक गैरसैंण में आयोजित करने का निर्णय लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *