वो दिन ऐसे थे…

स्टेडियम हल्द्वानी के निकट स्थित ऑफिसर्स कॉलोनी मैं मुझे सबसे खूबसूरत आवास आवंटित हुआ था, जहां…

खुश रहना भी एक कला

अपने कार्यालय से लौटते वक्त मुखानी चौराहे के जाम से वास्ता पड़ गया, कुछ फलांग आगे…