कोरोना वायरसः लॉक डाउन का दिखा असर, सड़कों में पसरा रहा सन्नाटा, कईयों के खिलाफ कार्यवाही

खबर शेयर करें

हल्द्वानी। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए लागू किये गये लॉक डाउन का अब पूर्णतया असर देखने को मिल रहा है। केवल निर्धारित अवधि तक ही लोग जरूरी सामान खरीद रहे हैं। इसके बाद सड़कों में सन्नाटा पसरा नजर आ रहा है। इक्का-दुक्का घूमने वालों को पुलिस-प्रशासन कानून का पाठ भी पढ़ा रहा है। साथ ही जरूरी सेवा से जुड़े वाहनों को छोड़कर अन्य वाहनों का भी बंद देखा गया। लॉक डाउन के दौरान संचालित हो रहे दो प्रतिष्ठानों को सीज किया गया। जबकि दर्जनों के खिलाफ कार्यवाही की गई। घरों से बाहर निकलने वालों को भी हिदायत दी गई।

लॉक डाउन के दौरान बुधवार को पुलिस-प्रशासन ने कल की अपेक्षा ज्यादा सख्ती बरती। लोगों को निर्धारित अवधि में ही घरों से बाहर निकलने दिया गया। लॉक डाउन के दौरान सिंधी चौराहे में चाय की दुकान संचालित करने पर पुलिस ने चाय विक्रेता को डंडे से समझाया और उसे दुकान बंद कर तत्काल भेज दिया गया। सिटी मजिस्ट्रेट प्रत्यूष कुमार के नेतृत्व में पुलिस-प्रशासनिक अधिकारी सड़कों पर उतर कर स्थिति का जायजा लेते रहे। सिटी मजिस्ट्रेट ने मंगल पड़ाव में खुली एक आईसक्रीम फैक्ट्री को भी पकड़ा। इस फैक्ट्री में दर्जनभर श्रमिक काम कर रहे थे। जिन पर लाठियां फटकारी गई। साथ ही श्रमिकों को घरों से बाहर न निकलने की हिदायत दी गई। जबकि फैक्ट्री संचालित करने वाले का चालान किया गया।

वहीं बनभूलपुरा थाना पुलिस ने बरेली रोड के उजाला नगर में टाईल्स को गोदाम खोलने पर उसके स्वामी को हिरासत में ले लिया। जबकि गाड़ी से टाईल्स उतारने वाले 12 श्रमिकों का पुलिस एक्ट में चालान किया गया और गोदाम को सीज कर दिया गया। पुलिस ने गोदाम स्वामी मोहम्मद तौफीक का दस हजार रूपये का पुलिस एक्ट में चालान भी किया है। साथ ही थाना पुलिस ने बेवजह सड़कों पर घूमने वाले 25 लोगों का पुलिस एक्ट में चालान किया। वहीं मंगल पड़ाव चौकी पुलिस ने बेवजह घूमने वाले दर्जनों लोगों पर लाठियां फटकार कर खदेड़ा।

बैंक, कोषागार व आवश्यक वस्तुओं की दुकानें निर्धारित समय प्रातः 7 से 10 बजे तक ही खुली रही। बंद होने के 15 मिनट पूर्व ही पुलिस-प्रशासन ने दुकानें बंद करने के साथ ही लोगों से वापस घरों को लौटने की अपील करनी शुरू कर दी थी। इसके बाद प्रशासन ने निर्धारित समय पूर्ण होने के बाद दुकान खोलने व बेवजह घूमने वालों के खिलाफ कार्यवाही करनी शुरू कर दी। पुलिस ने जगह-जगह बैरिकेटिंग लगाकर वाहनों को रोका और उचित वजह न बताने वाले वाहनों को सीज करने की कार्यवाही की गई। आवश्यक सेवा से जुड़े वाहन ही बुधवार को सड़कों पर संचालित होते दिखाई दिये। बुधवार को फल-सब्जी मंडी में भी भीड़ कम देखी गई। जरूरत की सामान खरीदने वाले लोग ही बाजार में दिखाई दिये। नवीन मंडी में बुधवार को लोगों की भीड़ बहुत कम रही। बाजारों की सड़कें सूनसान रही।

वहीं लॉक डाउन के बाद‌ सिडकुल में फैक्ट्रियां बंद हैं। ऐसे में यहां किराये में रहने वाले सिडकुल में काम करने वाले करीब दर्जनभर युवकों को उनके मकानस्वामियों ने निकाल दिया। इस पर सभी युवक कोतवाली पहुंचे और पुलिस-प्रशासन से मदद मांगी। इनमें अधिकांश युवक बागेश्वर व अन्य पर्वतीय क्षेत्र के रहने वाले थे। सिटी मजिस्ट्रेट के निर्देश के बाद इन्हें गंतव्य तक भेजने की अनुमति दी गई। बुधवार को भी यहां बाहर से आने वाले पर्वतीय क्षेत्रों के लोगों का आना लगा रहा। रोडवेज स्टेशन में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने यात्रियों के स्वास्थ्य की प्राथमिक जांच की। साथ ही उनसे किसी बाहरी व्यक्ति के संपर्क में आने या न आने की बात भी पूछी गई। चिकित्सकों ने यात्रियों को यह भी सलाह दी कि वह अपने घर पहुंचने के बाद भी ऐहतियात बरतें और अपने को परिवार के सदस्यों से कुछ समय के लिए दूर रखें। प्राथमिक स्वास्थ्य जांच के बाद इन यात्रियों को रोडवेज बस की मदद से गंतव्य को भेज दिया गया।

काठगोदाम थाना पुलिस ने भी रेलवे स्टेशन में जाकर वहां रूके लोगों से वार्ता की। यहां करीब दो दर्जन लोग फंसे हुए थे। जिन्हें पर्वतीय क्षेत्रों में जाना था। इस पर एसओ नंदन सिंह रावत ने सिटी मजिस्ट्रेट से वार्ता कर उन्हें उनके गंतव्य तक भेजने के लिए वाहनों की व्यवस्था कराई। इसके अलावा यहां भी बेवजह सड़कों पर घूमने वालों को खदेड़ा गया। लॉक डाउन के दौरान एसएसपी सुनील कुमार मीना भी लॉक डाउन के दौरान शांति व्यवस्था का जायजा लेते रहे। कुसुमखेड़ा क्षेत्र में उन्होंने सड़क पर घूम रहे लोगों से वजह पूछी और बिना वजह सड़क पर न निकलने की अपील की। लेकिन कुछ लोग इस अपील के बाद भी सड़कों पर ही रहे तो एसएसपी ने उन्हें खूब दौड़ाया। साथ ही पुनः सड़क में दिखने पर कड़ी कार्यवाही अमल में लाने की चेतावनी दी।

कुसुमखेड़ा चौराहे में मुखानी थाना पुलिस एसओ भगवान सिंह महर के नेतृत्व में बैरिकेटिंग लगाकर चैकिंग कर रही है। यहां पुलिस आने-जाने वाले हर वाहन को रोक रही है और सड़क पर निकलने वालों से वजह पूछी जा रही है। यहां पुलिस ने कई वाहन चालकों के खिलाफ कार्यवाही की है। इधर कोरोना वायरस से बचाव को लागू किये गये लॉक डाउन के दौरान कोई भी सख्श घरों से बाहर न निकलने इसके लिए पुलिस-प्रशासन ने मौलानाओं के साथ बैठक की। क्षेत्र की 34 में से 12 बड़ी मस्जिदों के मौलानाओं से कहा ‌गया कि वह नमाज के बाद लोगों से लगातार घरों से बाहर न निकलने की अपील करें। साथ ही मास्क व सेनिटाईजर का प्रयोग करने को कहें। इसके बाद अधिकांश मस्जिदों में क्षेत्र के लोगों से घरों से बाहर न निकलने की अपील की गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *