कोरोना नहीं देखता धर्म, मत व संप्रदाय, सबको एकजुट होकर इसके खिलाफ लड़ना होगा : मुख्यमंत्री

खबर शेयर करें

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि कोरोना धर्म, मत एवं संप्रदाय नहीं देखता। ऐसे में सबको एकजुट होकर इसके खिलाफ लड़ना होगा। कोई यदि बाहर से आया है तो उसे इसकी सूचना अनिवार्य रूप से प्रशासन व स्वास्थ्य महकमें को देनी चाहिए। कोई किसी भी तरह की अफवाहों में न आए। किसी के पड़ोस में भी यदि किसी को कोरोना के लक्षण नजर आते हैं तो इसकी सूचना प्रशासन को दी जाए।

उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में एनसीसी स्वयंसेवकों की भी मदद ली जा सकती है। इसके लिए उन्हें प्रशिक्षित किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने इस दौरान अप्रैल में जनधन खातों में आने वाली पेंशन को देखते हुए बैंकों में भीड़ न लगाने और सुरक्षित शारीरिक दूरी के संबंध में उचित कदम उठाने के भी निर्देश दिए। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कोरोना के संबंध में प्रदेश में की जा रही तैयारियों के संबंध में बैठक की। उन्होंने कहा कि केंद्र ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में एनसीसी स्वयंसेवकों का सहयोग लेने की अनुमति दे दी है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में खाद्यान्न व चारे की कोई कमी नहीं है। राज्य व जिलों की सीमाएं बंद होने के कारण जो लोग यहां रह गए हैं उनके खाने पीने व रहने का पूरा इंतजाम किया जा रहा है।

इसके बाद सोशल मीडिया में राज्य की जनता से संवाद करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि बड़ी संख्या में लोग अपने गांवों में आए हुए हैं। गांव के प्रधान व आशा कार्यकर्ता अच्छा काम कर रहे हैं लेकिन उन्हें लोगों का सहयोग नहीं मिल पा रहा है। लोग एक दूसरे से मिलने घरों पर पहुंच रहे हैं। इस समय घरों में रहना जरूरी है। मुख्यमंत्री ने इस दौरान गरीबों व जरूरतमंदों के खाने-पीने का इंतजाम करने वालों को भी धन्यवाद दिया। उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा 31 मार्च को 35 हजार लोगों को खाने के पैकेट पहुंचाने का जिक्र भी किया। उन्होंने लोगों से आसपड़ोस में घूमने वाले जानवरों को खाना देने की भी अपील की। बैठक में मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह, अपर मुख्य सचिव ओमप्रकाश व सचिव वित्त अमित नेगी भी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *