लॉक डाउनः प्रशासन ने रोडवेज बसों से भिजवाये फंसे हुए यात्री, कल से होगी वाहनों पर कार्यवाही

खबर शेयर करें

हल्द्वानी। कोरोना वायरस के संक्रमण से निपटने के लिए उत्तराखंड में लॉक डाउन के बाद फंसे यात्रियों को सोमवार को प्रशासन ने रोडवेज बसों के माध्यम से गंतव्य के लिए रवाना किया। साथ ही अधिकारियों ने बैठक कर लॉक डाउन का पालन कराने की अपील की। उल्लंघन पर कार्यवाही की चेतावनी दी है। लॉक डाउन के दौरान चलने वाले वाहनों को अब पुलिस सीज करने की कार्यवाही करेगी।

कोरोना वायरस के संक्रमण से निपटने के लिए रविवार को जनता कर्फ्यू के दौरान प्रदेश में लॉक डाउन हो गया। साथ ही ट्रेनों का संचालन बंद हो गया। इसके बाद ट्रेनों का स्टेशनों पर लौटना शुरू हो गया। इस बीच सोमवार की प्रातः यहां पहुंची बाघ व रानीखेत एक्सप्रेस ट्रेन में पर्वतीय क्षेत्रों के बड़ी संख्या में यात्री यहां पहुंचे। लेकिन लॉक डाउन के चलते उन्हें गंतव्य के लिए वाहन नहीं मिले। इसकी खबर प्रशासन को लगी तो कार्यवाही शुरू कर दी गई। सिटी मजिस्ट्रेट प्रत्यूष सिंह ने उत्तराखंड परिवहन निगम के सहायक महाप्रबंधक से पत्राचार कर यात्रियों को गंतव्य तक भेजने का प्रबंध करने के निर्देश दिये। इस पर पुलिस-प्रशासन ने रोडवेज बसों के माध्यम से यात्रियों को गंतव्य के लिए भेजा गया। एक बस में एक ही स्टेशन के यात्री बैठाए गए। कोतवाल संजय कुमार ने बताया कि दोपहर 12.30 बजे तक समस्त यात्रियों को उनके गंतव्य के लिए भेज दिया गया।

वहीं लॉक डाउन के दौरान सोमवार को कई वाहन संचालित होते दिखाई दिये। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार मीणा का कहना है कि लोग लॉक डाउन के दौरान वाहनों से बेवजह घूम रहे हैं। ऐसे लोगों पर कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने बताया कि मंगलवार से लॉक डाउन के दौरान यदि कोई चालक कोई खास वजह नहीं बता पायेगा तो वाहन सीज कर दिया जायेगा। इधर लाॅक डाउन का पालन कराने को पुलिस एसडीएम विवेक राय, सिटी मजिस्ट्रेट प्रत्यूष सिंह व एसपीसिटी अमित श्रीवास्तव ने पुलिस बहुद्देशीय भवन में पार्षदों व मौलानाओं की बैठक ली। इस दौरान अधिकारियों ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी का रूप ले चुका है। इससे लड़ने के लिए सभी को अपना सहयोग देना होगा। कहा कि जनता को जागरूक होना होगा और अतिआवश्यकीय परिस्थिति को छोड़कर घर से बाहर नहीं निकलना होगा। यदि बाहर जाना भी पड़े तो मास्क व सेनिटाईजर का प्रयोग करना होगा। साथ ही अधिकारियों ने लाॅक डाउन के तहत धारा 144 का पूर्णतया पालन की अपील की। कहा कि उल्लंघन करने वालों से सख्ती से निपटा जायेगा। जागरूकता ही कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने का एकमात्र उपाय है। इसलिए इसमें जनता अपना सहयोग प्रदान करे।

वहीं लाॅक डाउन के चलते बेस चिकित्सालय में मंगलवार से ओपीडी बंद हो जाएगी। केवल इमरजेंसी सेवा सुचारू रहेगी। जानकारी देते हुए बेस अस्पताल के सीएमएस डाॅ हरीश लाल ने बताया कि कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए लागू किये गये लाॅक डाउन के तहत मंगलवार से अस्पताल में ओपीडी पूर्णतया बंद रहेगी। जबकि इमरजेंसी सेवाएं सुचारू रहेंगी। इमरजेंसी में ही मरीजों की जांच की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *