प्रकाश जोशी ने प्रदेश सरकार को दिखाया आईना

खबर शेयर करें

कहाः विधान सभा सत्र न सिर्फ मजाक, बल्कि जनता के साथ धोखा

हल्द्वानी। कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय सचिव प्रकाश जोशी ने यहां पत्रकारों से वार्ता करते हुए कहा उत्तराखंड का विधानसभा सत्र ना सिर्फ एक मजाक बनकर रह गया है, बल्कि जनता के साथ धोखा हुआ है। विधानसभा की नियमावली के अनुसार 1 वर्ष में विधानसभा सत्र 60 दिन चलना चाहिए, परंतु उत्तराखंड के रिकॉर्ड पर नजर डालें तो वर्ष 2017 में कुल 3 सत्र 17 दिन वर्ष 2018 में कुल 3 सत्र 18 दिन वह वर्ष 2019 में कुल 3 सत्र मात्र 22 दिन के लिए आयोजित किए गए।
उन्होंने कहा कि बजट सत्र प्रदेश के विकास और सरकार की नीतियों का लेखा-जोखा रखने के लिए एक महत्वपूर्ण सत्र है, इसलिए किसी भी अन्य राज्य में बजट सत्र 1 माह तक चलाया जाता है, परंतु उत्तराखंड का बजट सत्र 3 मार्च से 7 मार्च 2020 तक मात्र 5 दिन के लिए प्रस्तावित था हम सब कांग्रेसजनों ने इस मुद्दे को सरकार के समक्ष मुखरता से उठाया प्रदेश के सभी जिला अधिकारी उप जिलाधिकारी के माध्यम से सरकार को ज्ञापन सौंपे गए। प्रदेश के विधायकों से अनुरोध किया गया कि वह सत्र की अवधि बढ़ाने के लिए सरकार पर दबाव डालें। इतना ही नहीं 3 मार्च से हम कांग्रेस जन द्वारा गैरसैंण में दो दिवसीय धरना दिन और रात चलाया गया। इस दबाव के बाद सरकार ने बजट सत्र की अवधि बढ़ाने का निर्णय लिया, जो हम कांग्रेसजनों की जीत है। सरकार द्वारा बजट सत्र 3 दिन अधिक 25 मार्च से 27 मार्च बड़ाने का निर्णय लिया गया है। एक और प्रदेश में भ्रष्टाचार का अड्डा बन चुके जिला विकास प्राधिकरण और व्यवहारिक रूप से बड़े हुए जमीनों के सर्किल रेट शिक्षा का गिरता स्तर स्वास्थ्य और बेरोजगारी की भयावह स्थिति से जूझ रहा है। कम अवधि का बजट सत्र पर्याप्त नहीं है,इस दिशा में कांग्रेस जनता के बीच जागरूकता अभियान चलाएगी मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी घोषित किया यह मात्र एक छलावा है। इसके लिए न तो कोई रूपरेखा है और ना ही बजट में कोई प्रावधान है। खास बात यह है कि माननीय को जब देहरादून में गर्मी लगेगी तो वह गैरसैंण की ओर अपना रुख करेंगे और गैरसैण मैं ठंड लगेगी तो देहरादून को चले जाएंगे, जिस राज्य में सरकार को कर्ज का ब्याज चुकाने के लिए भी कर्ज लेना पड़ा है वह दो राजधानी का आर्थिक बोझ कैसे वहन कर सकती है।
श्री जोशी ने कहा कि जम्मू कश्मीर में जहां दो राजधानियों का प्रावधान हैं, वर्ष में 20 से 30 दिन सचिवालय का काम-काज शिफ्टिंग के लिए बंद रहता है। कांग्रेस एकमात्र यह मांग करती है कि गैरसैंण को स्थाई राजधानी बनाना चाहिए तथा वर्ष 2022 में कांग्रेस की सरकार बनने पर जन भावनाओं के अनुरूप गैरसैंण को स्थाई राजधानी बना दिया जाएगा। पत्रकार वार्ता में ब्लाक प्रमुख भोला दत्त भट्ट, सदस्य पीसीसी संजय किरोला, पूर्व चेयरमैन दीप सती, पूर्व दर्जा राज्यमंत्री राजेंद्र खनवाल, ब्लॉक अध्यक्ष कुंदन नेगी, जिला महासचिव किरण महरा, पूर्व जिला पंचायत सदस्य नीरज तिवारी, पीसीसी सदस्य श्रीमती भागीरथी बिष्ट, जया कर्नाटक, नीलू नेगी, मोहित बिष्ट, जीवन अधिकारी, महेश कांडपाल, अशोक जोशी, यूथ कांग्रेस जिला सचिव प्रवीण भट्ट आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *