डेंगू तथा मलेरिया बीमारियों की रोकथाम की समीक्षा जिलाधिकारी श्री सविन बंसल द्वारा

खबर शेयर करें

हल्द्वानी 02 जून (सूचना) .- कोरोना संक्रमण के दौरान वर्षाकालीन मे होने वाले डेंगू तथा मलेरिया बीमारियों की रोकथाम की तैयारियों की समीक्षा जिलाधिकारी श्री सविन बंसल द्वारा मंगलवार को देर सांय शिविर कार्यालय मे की गई। उन्होने कहा कि आने वाला वर्षाकाल डंेगू तथा मलेरिया के दृष्टिगत काफी संवेदनशील है। ऐसे में लोगों को विभिन्न प्रचार माध्यमों से इन बीमारियों की रोकथाम तथा बचाव के लिए अभी से जागरूक किया जाए। जिले की सभी नगर पालिकायंे तथा नगर निगम मलेरिया दवाओं के छिडकाव के साथ ही डेंगू लार्वा को मारने के लिए फाॅगिंग का कार्य समय से प्रारम्भ कर दें। उन्होने कहा कि नगर निगम तथा नगर पालिकायें डेंगू नियंत्रण के लिए माइक्रो प्लान बनाकर तत्काल मुख्य चिकित्साधिकारी को उपलब्ध करायें। उन्होने कहा कि फांॅगिंग के लिए जो मशीने पहले से उपलब्ध है उनकी आवश्यक मरम्मत करा ली जाए तथा जरूरत हो तो नई मशीनें भी क्रय कर ली जांए। उन्होने निर्देश दिये कि मलिन बस्तियों मे छिड़काव एवं फाॅगिग का कार्य प्राथमिकता के आधार पर किया जाए।
श्री बंसल ने बैठक मे मौजूद नगर आयुक्त सीएस मर्तोलिया तथा नगर पालिकाओं के अधिशासी अधिकारियों से कहा कि पालिका क्षेत्र के अन्तर्गत जितने भी नाले व नालियांे है उनकी सफाई अभी से प्रारम्भ कर दी जाए तथा नियमित रूप से कूडे का उठान भी हो। उन्होनेे अधिशासी अभियन्ता जलसंस्थान को निर्देश दिये कि वह पेयजल के टैंको की सफाई, क्लोरीनाइजेशन कराकर पानी की सप्लाई करे, खुले हुये टैंकों को बन्द करायें। पानी की आपूर्ति नियमित रखें ताकि लोग घरों मे अनावश्यक पानी का स्टोर ना करें, स्टोर किये गये पानी मे ही डेंगू मलेरिया का लार्वा पनपता है। उन्होने सिचाई विभाग के अधीक्षण अभियन्ता संजय शुक्ला को निर्देश दिये कि वे नहरों की सफाई समय रहते ही सुनिश्चित करा देें।
जिलाधिकारी श्री बंसल ने कहा कि गत वर्षो में मलेरिया, डेंगू संवदेनशील एरिया को चिन्हित कर एरिया मैपिंग करते हुये कार्य योजना बनायें। उन्होने कहा बेस चिकित्सालय में डेगू व मलेरिया वार्ड स्थापित किये जांए तथा डेगू, मलेरिया जांच के लिए पैथोलाॅजी लैब 24 घंटे कार्य करेंगी इसलिए उनमें पर्याप्त टैक्निशियनांे की तैनाती एलाइजा किट की व्यवस्था अभी से सुनिश्चित कर ली जाए। उन्होने पीएमएस बेस डा0 हरीश लाल को निर्देश दिये कि वे नया सैपरेटर खरीदने का प्रस्ताव प्रस्तुत करें साथ ही एक एलाइजा टैस्ट मशीन खरीदने का प्रस्ताव प्रस्तुत करेंगे साथ ही दो एलाइजा टैस्ट मशीन सुशीला तिवारी मे भी क्रय किये जाए। उन्होने मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 भारती राणा व मलेरिया अधिकारी अर्जुन सिह राणा को निर्देश दिये कि वे जो भी कैमिकल फागिंग स्प्रे के लिए चाहिए उसकी व्यवस्था कर ली जाए।
जिलाधिकारी ने कहा कि डेंगू के जो भी गम्भीर रोगी होंगे उन्हे कोविड-19 के लिए कार्यरत समिति द्वारा इलाज के लिए अधिकृत किये गये 6 प्राइवेट अस्पतालों मे भेजा जायेगा। उन्होने कहा कि कोई भी व्यक्ति लक्षण दिखने पर अनावश्यक रूप से डेंगू का परीक्षण नही करायेगा केवल फिजिशियन की लिखित संस्तुति पर ही डेंगू का एलाइजा टैस्ट किये जायेेंगे। जिले के सभी चिकित्सालय डेंगू के समय एक ही नीति तथा गाईड लाइन पर कार्य करेंगे।
बैठक में चिकित्सा अघीक्षक सुशीला तिवारी डा0 अरूण जोशी, उपजिलाधिकारी विवेक राय, गौरव चटवाल, एसीएमओ डा0 रश्मि पंत, डा0 तरूण कुमार टम्टा, अधिशासी अभियन्ता जल संस्थान विशाल सक्सेना, अधिशासी अधिकारी नगर पंचायत राजू नबियाल, प्रतिभा कोहली,अधिशासी अधिकारी नगर पालिका विकास रावत,डा0 अनुराधा आदि मौजूद थे।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *